Blockquote

Followers

28 November, 2016

मुक्तक - चाँद की चादनी मे नहाती रही

चाँद की चादनी मे नहाती रही

सारी रात मुझे वो जगाती रही

प्यार से ज़रा छु लिया था होठो को उसके

और निल्को की धुन वो अब तक गाती रही

-

एम के पाण्डेय निल्को


Loading...