Blockquote

Followers

05 January, 2016

मैं सुबह का अख़बार नहीं होता

मंगलवार की सुबह
जल्दी ही नीद खुली
लगा हुआ किसी मुद्दे पर सुबह
और किसी को जीत मिली
रूप का
रंग का
बाजार नहीं होता
भले कमज़ोर हूँ
पर लाचार नहीं होता
निल्को को पढ़ना है तो
उसकी नज़र से पढ़िए
किसी के लिए भी
मैं सुबह का अख़बार नहीं होता
न जाने क्यू बैठे बैठे ही
कही दर्द हुआ करता है
कौन दुखता हुआ
मेरे घाव छुआ करता है
जो सामने की भीड़ में शामिल है
वह शख्स भी किसी का कातिल है
टूटते ये अजीबोगरीब रिश्ते
बस कलम,कैमरा और कीबोर्ड
यही निल्को के सिपाही है

Loading...