Blockquote

Followers

31 December, 2015

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं
है अपनी ये तो रीत नहीं
है अपना ये व्यवहार नहीं

धरा ठिठुरती है शीत से
आकाश में कोहरा गहरा है
बाग़ बाज़ारों की सरहद पर
सर्द हवा का पहरा है

सूना है प्रकृति का आँगन
कुछ रंग नहीं, उमंग नहीं
हर कोई है घर में दुबका हुआ
नव वर्ष का ये कोई ढंग नहीं

चंद मास अभी इंतज़ार करो
निज मन में तनिक विचार करो
नये साल नया कुछ हो तो सही
क्यों नक़ल में सारी अक्ल बही

ये धुंध कुहासा छंटने दो
रातों का राज्य सिमटने दो
प्रकृति का रूप निखरने  दो
फागुन का रंग बिखरने दो

प्रकृति दुल्हन का रूप धर
जब स्नेह – सुधा बरसायेगी
शस्य – श्यामला धरती माता
घर -घर खुशहाली लायेगी

तब चैत्र-शुक्ल  की प्रथम तिथि
नव वर्ष मनाया जायेगा
आर्यावर्त की पुण्य भूमि पर
जय-गान सुनाया जायेगा ।

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

साल निकल रहा है

साल निकल रहा है, कुछ नया होता है..
कुछ पुराना पीछे रह जाता है...
कुछ ख्वाईशैं दिल मैं रह जाती हैं..
कुछ बिन मांगे मिल जाती हैं ...
कुछ छौड कर चले गये..
कुछ नये जुड़ेंगे इस सफर मैं ..
कुछ मुझसे खफा हैं..
कुछ मुझसे बहुत खुश हैं..
कुछ मुझे भूल गये...
कुछ मुझे याद करते हैं...
कुछ शायद अनजान हैं कुछ बहुत परेशान हैं..
कुछ को मेरा इंतजार हैं ..
कुछ का मुझे इंतजार है..
कुछ सही है कुछ गलत भी है.कोई गलती तो माफ कीजिये और कुछ अच्छा लगे तो याद कीजिये

27 December, 2015

बड़ा महत्त्व है

" बड़ा महत्त्व  है "
----------------------------
👉 ससुराल में साली का
👉 बाग  में  माली     का
👉 होठों  में  लाली    का
👉 पुलिस में  गाली   का
👉 मकान  में  नाली   का
👉 कान   में   बाली   का
👉 पूजा   में   थाली   का
👉 खुशी  में  ताली   का.... बड़ा महत्त्व है...
:
👉 फलों  में  आम  का
👉 भगवान में  राम  का
👉 मयखाने में  जाम का
👉 फैक्ट्री  में  काम  का
👉 सुर्खियों में  नाम  का
👉 बाजार  में  दाम  का
👉 मोहब्बत में शाम  का....... बड़ा महत्त्व है.
👉 व्यापार  में  घाटा  का
👉 लड़ाई  में  चांटा   का
👉 रईसों  में   टाटा   का
👉 जूत्तों  में  बाटा   का..... बड़ा  महत्त्व  है

👉 फिल्म  में  गाने  का
👉 झगड़े   में  थाने  का
👉 प्यार   में  पाने    का
👉 अंधों   में  काने   का
👉 परिंदों  में  दाने   का........ बड़ा  महत्त्व है

👉जिंदगी में मोहब्बत का
👉 परिवार में इज्जत का
👉तरक्की में किस्मत का
👉 दीवानों में हसरत  का....... बड़ा महत्त्व है

👉 पंछियों में बसेरे  का
👉 दुनिया में सवेरे   का
👉 डगर   में  उजेरे  का
👉 शादी  में  फेरे   का...... बड़ा महत्त्व  है

👉 खेलों  में  क्रिकेट   का
👉 विमानों में   जेट    का
👉 शरीर    में   पेट   का
👉 दूरसंचार में  नेट  का...... बड़ा महत्त्व है

👉 मौजों  में  किनारों का
👉 गुर्वतों  में  सहारों   का
👉 दुनिया  में  नजारों का
👉 प्यार   में   इशारों  का...... बड़ा महत्त्व है

👉 खेत  में  फसल   का
👉 तालाब में कमल  का
👉 उधार  में  असल  का
👉 परीक्षा में  नकल  का..... बड़ा महत्त्व है

👉 ससुराल में जमाई का
👉 परदेश  में  कमाई का
👉 जाड़े  में  रजाई   का
👉 दूध   में  मलाई  का........ बड़ा महत्त्व है

👉 बंदूक  में  गोली   का
👉 पूजा   में  रोली  का
👉 समाज में बोली  का
👉 त्योहारों में होली का
👉 श्रृंगार में रूप का....... बड़ा महत्त्व है

👉 बारात  में  दूल्हे  का
👉 रसोई  में  चूल्हे  का..... बड़ा महत्त्व है

👉 सब्जियों में  आलू का
👉 बिहाऱ   में   लालू  का
👉 मशाले में   बालू   का
👉 जंगल   में  भालू  का
👉 बोलने   में  तालू  का..... बड़ा महत्त्व है

👉 मौसम में सामण  का
👉 घर   में   आँगण  का
👉 दुआ  में  माँगण   का
👉 लंका  में  रावण   का..... बड़ा महत्त्व है

👉 चमन  में  बहार   का
👉 डोली  में  कहार   का
👉 खाने   में  अचार  का
👉 मकान में  दीवार  का...... बड़ा महत्त्व है

👉 सलाद  में   मूली  का
👉 फूलों    में  जूली   का
👉 सजा   में  सूली   का
👉 स्टेशन  में  कूली  का...... बड़ा महत्त्व है

👉 पकवानों  में  पूरी  का
👉 रिश्तों  में    दूरी   का
👉 आँखों  में   भूरी   का
👉 रसोई   में   छूरी   का........ बड़ा महत्त्व है

👉 माँ    की   गोदी  का
👉 देश   में     मोदी  का...... बड़ा महत्त्व है

प्रतिभाओ को मिला समाज रत्न 2015 अवार्ड

परमार्थ एवं आध्यत्मिक समिति व राजस्थान जन मंच की ओर से रविवार को गो सेवा, अहिंसा, शाकाहार, प्राणी कल्याण, विलक्षण प्रतिभा, साहित्य, खेल कूद  जैसे क्षेत्रों में कार्य करने वाले विभिन्न विशिष्ट बालको,  व्यक्तियों और संस्था को समाज रत्न 2015′  से सम्मानित किया गया। पिंक सिटी प्रेस क्लब जयपुर में आयोजित समारोह में विलक्षण प्रतिभा के लिए मास्टर मनन सूद, नशा मुक्ति के लिए अजय कुमार, सामाजिक जागरण के लिए श्री अर्जुन देव,राजस्थानी साहित्य के लिए देव किशन राजपुरोहित, गौ सेवा के लिए श्री मदन मोहन खेल के लिए महेश नेहरा, हिन्दी साहित्य के लिए मुश्ताक अहमद, समाज सेवा के लिए श्री विश्वनाथ, श्री निर्मल गोधा,श्री राम बाबू, श्री सत्यनारायण शिक्षा के क्षेत्र मे श्रीमती स्नेहलता तथा विकलांग सेवा के लिए श्री सुभाष तटवार सहित कई प्रतिभाओ को सम्मानित किया गया । कहते है की जितना आवश्यक है समाज कानून विरोधियो को दंडित करना उससे कही अधिक आवश्यक है सेवा भावी व कर्मयोगियों को सम्मानित करना । कार्यक्रम मे मुख्य सरक्षक श्री आर के अग्रवाल सहित श्री कमल लोचन, श्री श्याम विजय सहित मुख्य अतिथि  श्री महेश चंद गुप्ता, आर डी शर्मा तथा परम पूज्य गुरुदेव श्री प्रज्ञानन्द जी महाराज सहित सैकड़ो लोग उपस्थित थे । 

26 December, 2015

तीन बातें

√.तीन चीजों को कभी छोटी ना समझे - बीमारी, कर्जा, शत्रु।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीनों चीजों को हमेशा वश में रखो - मन, काम और लोभ।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें निकलने पर वापिस नहीं आती - तीर कमान से, बात जुबान से और प्राण शरीर से।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें कमज़ोर बना देती है - बदचलनी, क्रोध और लालच।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़े असल उद्धेश्य से रोकता हैं - बदचलनी, क्रोध और लालच।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें कोई चुरा नहीं सकता - अकल, चरित्र, हुनर।
√.तीन चीजों में मन लगाने से उन्नति होती है - ईश्वर, परिश्रम और विद्या।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन व्यक्ति वक़्त पर पहचाने जाते हैं - स्त्री, भाई, दोस्त।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीनों व्यक्ति का सम्मान करो - माता, पिता और गुरु।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीनों व्यक्ति पर सदा दया करो - बालक, भूखे और पागल।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़े कभी नहीं भूलनी चाहिए - कर्ज़, मर्ज़ और फर्ज़।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन बातें कभी मत भूलें - उपकार, उपदेश और उदारता।
•√.तीन चीज़े याद रखना ज़रुरी हैं - सच्चाई, कर्तव्य और मृत्यु।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन बातें चरित्र को गिरा देती हैं - चोरी, निंदा और झूठ।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें हमेशा दिल में रखनी चाहिए - नम्रता, दया और माफ़ी।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ों पर कब्ज़ा करो - ज़बान, आदत और गुस्सा।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ों से दूर भागो - आलस्य, खुशामद और बकवास।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ों के लिए मर मिटो - धेर्य, देश और मित्र।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें इंसान की अपनी होती हैं - रूप, भाग्य और स्वभाव।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीजों पर अभिमान मत करो – ताकत,सुन्दरता, यौवन।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें अगर चली गयी तो कभी वापस नहीं आती - समय, शब्द और अवसर।
→→→←←←←→→→←←←
•√.तीन चीज़ें इन्सान कभी नहीं खो सकता - शान्ति, आशा और ईमानदार
→→→←←←←→→→←←←
सादर
VMW Team

14 December, 2015

Women's Self-Defense



Tigers Women's Self-Defense Institute provides realistic, effective self-defense training for today's busy female.
The mission at Tigers Women's Self-Defense Institute is simple - empowering you to fight back against crime.

How?

By providing you training and education in:

Awareness
Prevention
Risk reduction
Risk avoidance; and
Self-realization of your own physical power

These tools greatly increase your personal protection options to combat crime.

At Tigers Women's Self-Defense Institute we believe that women’s self-defense training is more than just kicking and punching. We assist women in three ways to combat crime:
By Engaging the Mind we help you identify and recognize early warning signals, criminal processes and how criminals operate;
By Educating the Body we teach you hands-on effective, easy to learn techniques that maximize damage while not relying on strength; and
By Empowering the Spirit we build your survival mindset to ensure your own personal safety.

07 December, 2015

6 दिसम्बर शौर्य दिवस

नहीं चाहिए हिन्दुओं को ऐसी धर्मनिर्पेक्षता जो हिन्दुओं की आस्था से खिलवाड़ कर व हिन्दुओं का खून बहाकर फलती फूलती है । आज इसी वजह से जागरूक हिन्दू इस धर्मनिर्पेक्षता की आड़ में छुपे हिन्दूविरोधियों को पहचान कर अपनी मातृभूमि भारत से इनकी सोच का नामोनिशान मिटाकर इस देश को धर्मनिर्पेक्षता द्वारा दिए गये इन जख्मों से मुक्त करने की कसम उठाने पर मजबूर हैं।
जय श्री राम...!

सादर
एम के पाण्डेय निल्को

🚩🚩अयोध्या करती है आह्वान
ठाठ से कर मंदिर निर्माण
शिला की जगह लगा दे प्राण
बिठा दे वहाँ राम भगवान
हिंदू है तो हिंदुओं की आन मत जाने दे
राम लला पे कोई आंच मत आने दे
कायर विरोधियों को शोर मचाने दे
लक्ष्य का रख तू ध्यान
मंदिर बनाने का पुराना अनुबंध है
सब तेरे साथ पूरा पूरा प्रबंध है.
कारसेवकों के बलिदान की सौगंध है
बढ़ चल वीर जवान.
जिस दिन राम का भवन बन जाएगा
उस दिन भारत में राम राज आएगा
रामभक्तों का हृदय मुस्काएगा
खिल के कमल समान
अयोध्या करती है आह्वान
ठाठ से कर मंदिर निर्माण🚩🚩
      🚩🚩जय श्रीराम🚩🚩

05 December, 2015

एक दिन कार,दूसरे दिन बेकार

 दिल्ली हाईकोर्ट और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल से मिली कड़ी फटकार के बाद केजरीवाल सरकार ने शुक्रवार को डीजल और पेट्रोल से चलने वाली गाड़ियों को लेकर बड़ा फैसला लिया। सरकार ने घोषणा की है कि एक जनवरी से राजधानी में इवेन और ऑड नंबर की गाड़ियों के लिए अलग अलग दिन निश्चित होगा। यानी 2,4,6,8,0 के नंबर वाली गाड़ियां पहले दिन और 1,3,5,7,9 की गाड़ियां दूसरे दिन चलेंगी। दिल्ली में वायु प्रदूषण घटाने के लिए केजरीवाल सरकार का गाड़ियों के सम-विषम नंबर वाला ये फैसला खुद दिल्ली वालों की नजर में कितना व्यावहारिक है? फैसले पर अमल से कैसे बढ़ेंगी उनकी दिक्कतें? और स्वच्छ हवा के लिए क्या वे ये कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं?

झाड़ू, जब तक एक सूत्र में बँधी होती है, तब तक वह कचरा साफ करती है लेकिन वही झाड़ू जब बिखर जाती है तो खुद कचरा हो जाती है एकता का महत्व समझे

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद .........!

04 December, 2015

ये चन्द लाइने लिखने से क्या फ़ायदा- एम के पाण्डेय ‘निल्को’


ए दोस्त ज़रा मुझ पर
रहमत की नज़र रखना
मै भी तुंहरा ही हूँ
इसकी तो खबर रखना 

मुझ जैसे डूबने वालों को
अब तेरा सहारा है
निल्को ने देख लिया सबको
अब तुझको पुकारा है 

कही डूब न जाऊ मैं
मेरा हाथ पकड़ रखना
तेरी ज़िंदगी के इतिहास में
मेरी भी एक कहानी लिखना 
प्रेम की गर न हो निशानी
ऐसी मीरा की क्या जो न हो दीवानी
ये चन्द लाइने लिखने से क्या फ़ायदा
जिसमे न हो तेरी मेरी कहानी

रंग तो इसका कुछ और चढ़ा होता
प्रेम का यदि व्याकरण तुमने पढ़ा होता
तुम्हारे साथ मिलकर मधुलेश
इक नया आचरण गढ़ा होता
अपनी तो क्या लिखू ए दोस्त
कुछ कम,कुछ गम और कुछ नम लिखते है
एक डायरी रखता हूँ दिल के अंदर
जिस पर सिर्फ़ और सिर्फ तुम्हारा नाम लिखते है
 एम के पाण्डेय निल्को
(युवा ब्लॉगर और कवि)

27 November, 2015

हाय रे - आमिर खान

शाहरुख़ का मुँह बन्द हुआ था फिर से आमिर बोल गया
भारत से शीतल चन्दन पर वो अपना विष घोल गया ।

सत्यमेव के नायक का जब कर्म घिनौना होता है
इन पर लिखने से कवीता का स्तर बौना होता है

पर तटस्थ रहना कब सीखा दिनकर की संतानों ने
भारत का ठेका ले रखा बॉलीवुड के खानों ने

श्री राम की पावन भूमि पर जिनको डर लगता है
पाक सीरिया यमन इन्हें मनमानस का घर लगता है

इनसे कह दो भारत में खुशहाल मवेशी रहते हैं
कश्मीरी पण्डित स ज्यादा बंग्लादेशी रहते हैं

बचपन में खेले जिस पर उस माटी से मतभेद किया
जिस थाली में खाया आमिर तुमने उसमे छेद किया

भारत ही बस मौन रहा है शिव जी के अपमान में
पी के जैसी फ़िल्म बनाते यदि जो पाकिस्तान में

जीवन रक्षा की खातिर हाफिज को मना रहे होते
अभिनेता न बन पाते बस पंचर बना रहे होते

जितना भारत से पाया अब देते  हुए लगान चलो
बोरिया बिस्तर बाँधो आमिर जल्दी पाकिस्तान चलो ।

अभिनेता आमीर खान बनाम असहिष्णुता


************************************
"तूने कहा,सुना हमने अब मन टटोलकर सुन ले तू,
सुन ओ आमीर खान,अब कान खोलकर सुन ले तू,"

तुमको शायद इस हरकत पे शरम नहीं आने की,
तुमने हिम्मत कैसे की जोखिम में हमें बताने की

शस्य श्यामला इस धरती के जैसा जग में और नहीं
भारत माता की गोदी से प्यारा कोई ठौर नहीं

घर से बाहर जरा निकल के अकल खुजाकर पूछो
हम कितने हैं यहां सुरक्षित, हम से आकर पूछो

पूछो हमसे गैर मुल्क में मुस्लिम कैसे जीते हैं
पाक, सीरिया, फिलस्तीन में खूं के आंसू पीते हैं

लेबनान, टर्की,इराक में भीषण हाहाकार हुए
अल बगदादी के हाथों मस्जिद में नर संहार हुए

इजरायल की गली गली में मुस्लिम मारा जाता है
अफगानी सडकों पर जिंदा शीश उतारा जाता है

यही सिर्फ वह देश जहां सिर गौरव से तन जाता है
यही मुल्क है जहां मुसलमान राष्ट्रपति बन जाता है

इसकी आजादी की खातिर हम भी सबकुछ भूले थे
हम ही अशफाकुल्ला बन फांसी के फंदे झूले थे

हमने ही अंग्रेजों की लाशों से धरा पटा दी थी
खान अजीमुल्ला बन लंदन को धूल चटा दी थी

ब्रिगेडियर उस्मान अली इक शोला थे,अंगारे थे
उस सिर्फ अकेले ने सौ पाकिस्तानी मारे थे

हवलदार अब्दुल हमीद बेखौफ रहे आघातों से
जान गई पर नहीं छूटने दिया तिरंगा हाथों से

करगिल में भी हमने बनकर हनीफ हुंकारा था
वहाँ मुसर्रफ के चूहों को खेंच खेंच के मारा था

मिटे मगर मरते दम तक हम में जिंदा ईमान रहा
होठों पे कलमा रसूल का दिल में हिंदुस्तान रहा

इसीलिए कहता हूँ तुझसे,यूँ भड़काना बंद करो
जाकर अपनी फिल्में कर लो हमें लडाना बंद करो

बंद करो नफरत की स्याही से लिक्खी
पर्चेबाजी
बंद करो इस हंगामें को, बंद करो ये लफ्फाजी

यहां सभी को राष्ट्र वाद के धारे में बहना होगा
भारत में भारत माता का बनकर ही रहना होगा

भारत माता की बोली भाषा से जिनको प्यार नहीं
उनको भारत में रहने का कोई भी अधिकार नहीं"
=======================

25 November, 2015

आपको सर्दी की शुभकामनांए

जाड़े की धूप

              टमाटर का सूप ।।

मूंगफली के दाने

            छुट्टी के बहाने ।।

तबीयत नरम

                पकौड़े गरम ।।

ठंडी हवा

               मुँह से धुँआ ।।

फटे हुए गाल

             सर्दी से बेहाल ।।

तन पर पड़े

                 ऊनी कपड़े ।।

दुबले भी लगते

                   मोटे तगड़े ।।

किटकिटाते दांत

             ठिठुरते ये हाथ ।।

जलता अलाव

              हाथों का सिकाव ।।

गुदगुदा बिछौना

                रजाई में सोना ।।

सुबह का होना

                सपनो में खोना ।।

स्वागत है सर्दियों का आना

आपको सर्दी की शुभकामनांए

23 November, 2015

आखिर कब तक ढूँढेगा निल्को

बहुत याद आउगा 
जब छोड़ के जाउगा
चाहे लाख बुराई क्यू न हो
पर तुम जैसा दोस्त नहीं पाउगा


बहुत छेड़ता हूँ न मैं
परेशान भी करता हूँ न मैं
गुस्सा तुम होते हो मन ही मन
पर मनाता भी न हूँ मैं

क्यू सताते हो कुछ इस तरह
मिलते नहीं हो रोज की  तरह
आखिर कब तक ढूँढेगा निल्को
तुम्हे बीच इस शहर


कहती हो न की छोडो मुझको
अपनी बाहों में न लो मुझको
उस दिन आँसू न बहाना
जिसदिन छोड़ जाऊगा तुम सबको


बहुत ही अच्छा मैं तो नहीं
दिल से बच्चा मैं तो नहीं
पर एक बात तो कहूँगा ही
थोडा सा सच्चा मैं भी सही
एम के पाण्डेय निल्को 



13 November, 2015

चित्रगुप्त पूजनोत्सव की मंगलकामना।

कथाओं में लिखा है कि यमराज इतने व्यस्त रहते थे, कि कभी बहन यमुना के घर नहीं जा पाते। इस पर यमुना को बहुत दुःख होता था। कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीय को यमराज अचानक यमुना के घर पहुंचे, तो यमुना बहुत प्रसन्न हुईं और यमराज की खूब आवभगत की। यमराज ने प्रसन्न हो कर वर दिया कि आज के दिन बहन के घर भोजन करने वाले को यम का भय न होगा। इस परंपरा के माध्यम से हर भाई-बहन के बीच स्नेह बढे, इस प्रार्थना के साथ आप सबको भाई दूज या भातृ-द्वितीया की अनंत शुभकामनाएँ। साथ ही चित्रगुप्त पूजनोत्सव की मंगलकामना।
सादर
एम के पाण्डेय निल्को

09 November, 2015

दीपावली पर माँ लक्ष्मी की पूजा कैसे करे

सबसे बड़ा सवाल की दीपावली पर माँ लक्ष्मी की पूजा कैसे करे ताकि साल भर उनकी कृपा मिलती रहे इस विषय पर कुछ जानकारी बता रही है ऐस्ट्रॉलजर निर्मला सेवानी जी ।

Diwali special | Shree Aradhna Puja by Nirmala sewani Part 1 | First India News Rajasthan
https://www.youtube.com/watch?v=Onbc20p0xOY
#Diwali #puja

Diwali special | Shree Aradhna Puja By Nirmala sewani Part 3 | First India News Rajasthan
https://www.youtube.com/watch?v=DNqEFIcvppE
#Diwali #puja

Diwali special | Shree Aradhna Puja By Nirmala sewani Part 2 First India News Rajasthan
https://www.youtube.com/watch?v=ulckrDrL5GM
#Diwali #puja

01 November, 2015

प्रधानमंत्रीजी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त

प्रधानमंत्री जी,

सबसे पहले तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि मैं ना आज़म खां 😈की भैंस हूं और ना लालू 👺यादव की!

ना मैं कभी रामपुर गयी ना पटना!
मेरा उनकी भैंसों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है।

यह सब मैं इसलिये बता रही हूं कि कहीं आप मुझे विरोधी पक्ष की भैंस ना समझे लें।

मैं तो भारत के करोड़ों इंसानों की तरह आपकी बहुत बड़ी फ़ैन हूं।

जब आपकी सरकार बनी तो जानवरों में सबसे ज़्यादा ख़ुशी 😆हम भैंसों को ही हुई थी।

हमें लगा कि ‘अच्छे दिन’ सबसे पहले हमारे ही आयेंगे।
लेकिन हुआ एकदम उल्टा! आपके राज में तो हमारी और भी दुर्दशा हो गयी।
अब तो जिसे देखो वही गाय की तारीफ़ 👌🏼करने में लगा हुआ है। कोई उसे माता ⛄बता रहा है तो कोई बहन!👩🏻 अगर गाय माता है तो हम भी तो आपकी चाची, ताई, मौसी, बुआ कुछ लगती ही होंगी!

हम सब समझती हैं। हम अभागनों का रंग काला है ना! इसीलिये आप इंसान लोग हमेशा हमें ज़लील करते रहते हो और गाय को सर पे चढ़ाते रहते हो!

आप किस-किस तरह से हम भैंसों का अपमान करते हो, उसकी मिसाल देखिये।

आपका काम बिगड़ता है अपनी ग़लती से और टारगेट करते हो हमें कि

देखो गयी भैंस पानी मे

.
.
.
.

गाय को क्यूं नहीं भेजते पानी में! वो महारानी क्या पानी में गल जायेगी?😨😱😠

आप लोगों में जितने भी लालू लल्लू हैं, उन सबको भी हमेशा हमारे नाम पर ही गाली दी जाती है

काला अक्षर भैंस बराबर

माना कि हम अनपढ़ हैं,

लेकिन गाय ने क्या पीएचडी की हुई है?😠😡😠

जब आपमें से कोई किसी की बात नहीं सुनता, तब भी हमेशा यही बोलते हो कि

भैंस के आगे बीन बजाने से क्या फ़ायदा!

आपसे कोई कह के मर गया था कि हमारे आगे बीन बजाओ? बजा लो अपनी उसी प्यारी गाय के आगे!😠😡😤

अगर आपकी कोई औरत
फैलकर बेडौल हो जाये तो उसे भी हमेशा हमसे ही कंपेयर करोगे कि

भैंस की तरह मोटी हो गयी हो

करीना; कैटरीना गाय और डॉली बिंद्रा भैंस! वाह जी वाह!
😖😤😨

गाली-गलौच करो आप और नाम बदनाम करो हमारा कि

भैंस पूंछ उठायेगी तो गोबर ही करेगी

हम गोबर करती हैं तो गाय क्या हलवा करती है? 😥😰😠

अपनी चहेती गाय की मिसाल आप सिर्फ़ तब देते हो, जब आपको किसी की तारीफ़ करनी होती है-

वो तो बेचारा गाय की तरह सीधा है, या- अजी, वो तो राम जी की गाय है!

तो गाय तो हो गयी राम जी की और हम हो गये लालू जी के!

वाह रे इंसान! ये हाल तो तब है, जब आप में से ज़्यादातर लोग हम भैंसों का दूध पीकर ही सांड बने घूम रहे हैं।

उस दूध का क़र्ज़ चुकाना तो दूर, उल्टे हमें बेइज़्ज़त करते हैं! आपकी चहेती गायों की संख्या तो हमारे मुक़ाबले कुछ भी नहीं हैं। फिर भी, मेजोरिटी में होते हुए भी हमारे साथ ऐसा सलूक हो रहा है!

प्रधानमंत्री जी, आप तो मेजोरिटी के हिमायती हो, फिर हमारे साथ ऐसा अन्याय क्यूं होने दे रहे हो?

प्लीज़ कुछ करो! आपके ‘कुछ’ करने के इंतज़ार में – आपकी एक तुच्छ प्रशंसक!
🐃🐃🐃🐃🐃🐃

Loading...