Blockquote

Followers

12 December, 2014

विलक्षण प्रतिभा - गजब की स्मरण शक्ति जयपुर के WONDER BOY मनन सूद की

Manan Sood
गूगलब्वॉय के नाम से प्रसिद्ध कौटिल्य पंडित के बाद अब जयपुर के मनन सूद भी अपने जवाबों से लोगों को चकित करने में लगा हैं. वह भी गूगल ब्वॉय की तरह विलक्षण स्मरण शक्ति की धनी हैं, किसी भी सवाल का जवाब सेकेंड़ों में देकर वह लोगों को दांतों तले अंगुलियां दबाने पर मजबूर कर देता हैं चार साल का मनन सूद यूं तो आम बच्चों सा दिखता है, लेकिन उसकी खासियत तब सामने आती है, जब कठिन से कठिन सवालों का जवाब वह बिना देरी किए देने लगता है। एलकेजी में पढ़ रहे मनन को राजस्थान और देश के अलावा विश्व के मानचित्र में महारथ है। वह देश का स्थान और राजधानियां ऎसे बताता है, जैसे वर्णमाला सुना रहा हो। उसे केमिस्ट्री की आवर्त सारणी, सौर मंडल, देशों की मुद्राएं, आविष्कार और किताबों के रचनाकारों के नाम कंठस्थ हैं। इनसे जुड़ा कोई सवाल किसी भी वक्त उससे पूछ सकते हैं। महज चार वर्ष की आयु में जिले का नाम रोशन करने वाले मनन को सभी देशों की राजधानी, सभी आविष्कारों के बारे में जानकारी है किसी भी आविष्कार के वैज्ञानिक का नाम झट से बताता है 
विश्वभर की जानकारी रखने वाले कौटिल्य पंडित की प्रतिभा से तो कोई अनजान नहीं होगा, ठीक वैसे ही सिविल लाइन्स जयपुर के निवासी श्री आलोक सूद के चार वर्षीय मनन को भी पूरे वर्ल्ड के बारे में ज्ञान है वह एक बार जो पढ़ लेता है, उसे कभी नहीं भूलता | 
उसकी उम्र भले ही अभी छोटी है, मगर विश्व के देशों की भौगोलिक सीमाएं, क्षेत्रफल व अन्य तमाम जानकारियां उसे जुबानी याद हैं। आपने सवाल किया नहीं कि जवाब तुरंत हाजिर। मनन के पिता आलोक सूद बताते हैं कि उनका बच्चा इतिहास और भूगोल की अच्छी जानकारी रखता है. वह किसी भी विषय को रटके नहीं बल्कि अच्छी तरह समझता है और इस पर अपनी राय भी देता है. विश्व के कई धर्मों और परम्पराओं के बारे में इसे पता है इसके साथ साथ वह मार्शल आर्ट भी सीखता है |
मनन के जीवन से वास्तव में आजकल के माता-पिता को सीख लेनी चाहिए कि बच्चा एक कच्चे घड़े की तरह होता है। जैसा हम ढालना चाहते हैं वैसा ही ढल जाता है। हम अपनी व्यस्तता के कारण उनके लिए समय नहीं निकाल पाते और न ही उनके प्रश्नों के उत्तर देने के अहमियत को समझते हैं या फिर उनको डांट देते हैं तो इसीलिए बच्चे भी मां बाप से बात करने में कतराने लगते हैं और अपने मन में आने वाले सवालों को अपने तक ही सीमित रख लेते हैं। उनकी जिज्ञासा तभी बढ़ती है जब उन्हें अपने प्रश्नों का जवाब मिले। यही कारण है कि मनन का दिमाग इतना तेज चलता है क्योंकि उसके दिमाग को पूरी खुराक मिल जाती है बचपन से ही वह काफी उत्सुक स्वभाव का है और बहुत कल्पनाशील है। अपने पिता व दादाजी से सब तरह के प्रश्न पूछता है। अधिकतर माता-पिता अपनी व्यवस्तता एवं अज्ञानता के चलते उन प्रश्नों के उत्तर नहीं दे पाते पर मनन के पिता और दादाजी जो शुरू से ही उसके सभी प्रश्नों के उत्तर देते रहे हैं और उनके अनुसार यदि उनको किसी प्रश्न का उत्तर मालूम नहीं होता तो भी इंटरनेट से ढूंढ़ कर वे उसे उत्तर देते हैं और तब तक उत्तर देते रहते हैं जब तक कि उसकी जिज्ञासा शांत नहीं हो जाती। इसी के फलस्वरूप मनन को सारे एटलस, सौरमंडल, देश, विदेश आभा बंसल, फ्यूचर पाॅइंट की राजधानी व राजनीति की बहुत जानकारी है। मनन के दादाजी श्री राकेश चंद्र सूद जो की एक वरिष्ठ मार्शल आर्ट प्रशिक्षक है मनन को पढ़ाते हैं और उसका एक दोस्त की तरह साथ देते हैं और उसके साथ बच्चा बनकर खेलते भी हैं। 

*******************
एम के पाण्डेय निल्को
Loading...