Blockquote

Followers

10 December, 2014

मैं कौन हूँ ......TRIPURENDRA OJHA NISHAAN

कैसे मै कहूं मै कौन हूँ ,
बस यूँ समझ लो 
मिल जाय मुझे गंगा तो सागर हूँ 
वरना अविरल बहता पानी हूँ,
स्वीकार करे समाज तो एक अनमोल रिश्ता हूँ ,
वरना एक अधूरी कहानी हूँ ,
पा लूं मंजिल तो एक मिसाल हूँ,
हो जाऊ बर्बाद तो मशहूर जवानी हूँ,
बदगुमां हूँ , बदनाम हूँ , 
जवानी की हरकत पुरानी हूँ,
जो पूछते हो तो बताती हूँ 'निशान',
न पहचाना तो खैर,
पहचान गये तो इश्क रूहानी हूँ 
.पर 
कैसे कहूं मै कौन हूँ .......................

                                   
 त्रिपुरेन्द्र ओझा " निशान "





आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद .........!
Loading...