Blockquote

Followers

19 May, 2012

फेसबुक के आईपीओ पर निवेशकों की पैनी नजर है।

 फेसबुक के आईपीओ पर निवेशकों की पैनी नजर है। कंपनी इस आईपीओ के जरिए 5600 अरब रुपये की मालिक बनने जा रही है। आईपीओ प्लानिंग से लेकर इसे बाजार में लाने तक के लिए काफी मेहनत भी की गई है, लेकिन क्या आपको पता है कि फेसबुक आईपीओ का मास्टर माइंड कौन है? इसके पीछे दिमाग किसका है? आईपीओ की प्लानिंग किसने की? किसने फेसबुक को वित्तीय मजबूती दी? इन सबका जवाब अधिकतर लोग मार्क जुकरबर्ग ही देंगे। अगर आपका जवाब भी यही है, तो आप बिल्कुल गलत हैं। जी हां, मार्क जुकरबर्ग से ज्यादा इस काम को अंजाम फेसबुक के मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) ने दिया है।
42 साल के डेविड इंबरसमैन ही फेसबुक आईपीओ के चीफ मास्टर माइंड हैं। स्वभाव से काफी शांत इंबरसमैन पर्दे के पीछे के खिलाड़ी है। फेसबुक से पहले इन्होंने 2009 में जेंटैक की पूरी हिस्सेदारी दिलाने में भी अपनी पुरानी कंपनी आरएचएचबीवाई में अहम रोल निभाया था। इंबरसमैन के एक सहयोगी कर्मचारी मार्क भी उन्हें वॉल स्ट्रीट का जानकार मानते हैं।
फेसबुक में आने के बाद से इंबरसमैन कंपनी को वित्तीय मजबूत करने में लगे हुए थे। कुछ लोगों की टीम के साथ मल्टीईयर बजट तैयार किया गया था। इसे फाइनेंस की टीम ने हैक कर लिया था। उसके बाद भी इंबरसमैन ने हार नहीं मानी। इसे अंतिम रूप देने के लिए कई महीने लगे। इंबरसमैन को कई स्तर पर इस बजट को बनाने में मुश्किल का सामना भी करना पड़ा था।
जानकारों का मानना है कि फेसबुक को पब्लिक मार्केट में लाना बिल्कुल आसान काम नहीं था। कंपनी के खर्चो में पिछले 1-2 साल में 70-75 फीसदी तक का इजाफा हुआ है। वहीं रिस्क फैक्टर भी बढ़ा है। इन सबके बावजूद इंबरसमैन ने इसे मुमकिन कर दिखाया।
इंबरसमैन ने गुडविल पाने के लिए कंपनी की बाकी गतिविधियों में भी हिस्सा लेना चालू कर दिया था। उन्होंने फेसबुक की टॉप 40 इन हाउस ब्रांड फीडबॉम्ब को ज्वाइन कर लिया। इससे भी कंपनी के कर्मचारियों को जानने और वित्तीय जरूरतों को समझने में इंबरसमैन को काफी मदद मिली।
दिलचस्प है कि फेसबुक ने अपने आईपीओ का प्राइस बैंड 34-38 डॉलर तक रखा है। पहले कंपनी ने अपने आईपीओ के लिए 28-35 डॉलर का प्राइस बैंड निर्धारित किया था। प्राइस बैंड के अधिकतम स्तर यानी 38 डॉलर के हिसाब से अगर फेसबुक की कीमत आंकी जाए तो कीमत बैठती है करीब 104 बिलियन डॉलर यानी पांच लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा।
कंपनी अभी पूरे शेयर नहीं बेच रही है। अभी जितने शेयर बेच रही है उससे कंपनी को करीब 12 बिलियन डॉलर यानी 60 हजार करोड़ रुपये मिलेंगे। कंपनी 33 करोड़ शेयरों की जगह अब करीब 42 करोड़ शेयर बेचेगी। फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग तो कंपनी में अपनी हिस्सेदारी नहीं बेचेंगे लेकिन सिलिकॉन वैली के बड़े उद्योगपति पीटर थील 16 करोड़ शेयर बेचेंगे। गोल्डमैन सैश ने भी करीब 28 करोड़ शेयर बेचने का फैसला किया है। हेज फंड टाइगर ग्लोबल 23 करोड़ शेयर बेचेगा।

अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | vmwteam@live.com +91-9024589902:+91-9044412246,27,12
Loading...