Blockquote

Followers

31 December, 2011

मोहित पाठक
है यही ईश्वर से गुहार मेरी
पूरे हों संकल्प सब
जो कर रही हैं टोलियां
गूंजा करे यूंहीं ज्यूं आज
गूंजती हैं प्यार की यह बोलियां
आस में रंग भरते रहें और
कल्पना का विस्तार हो
हर कोई लगे अपना ही सा
हर दिल में भरा प्यार हो

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !
आपका

 मोहित पाठक 
सिटी हॉस्पिटल,पीलीभीत  

जब जागो तभी सवेरा

जागो, तनिक सोचो जिस देश समाज से हो तुम जाते जाने और पहचाने,
उसकी कभी भी न की महसूस, ज़रा भी जिमेदारी हमने,
तनिक न सोचा अवला, दीन, दुखी और अनाथों के बारे में
"जब जागो तभी सवेरा " देर अभी भी न हुई है जागने में ,
आज ही ले लो कोई प्रण, कसम, इस नव वर्ष पर अभी से
एक भी दुखी पर की गयी दया हर लेगा सारा चिंतन ज़िन्दगी से ,
नव उर्जा, प्रफुल्लित मन भर देगा खुशियों से सारा घर आँगन
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आप का आयुष शुक्ला
निलेश
देवेश
समय, चाहता है परिवर्तन
इसलिए बदल देता है
हर साल को
और आ जाता है
साल के बाद
दूसरा नया साल।

आदमी भी बदलता है
जो तेजी से बदलता-
वह सब से अच्छा है
आदमी का नही बदलना
चेतन से जड़ होना है।

नही बदलने वाला
टूट जाता है प्रकृति से
और वे जीवित
भागते हैं कब्रगाह की ओर
बन जाते हैं, इतिहास के पन्ने
या पड़े रहते हैं मुर्दाघर में

मनुश्य भी प्रकृति का हिस्सा है
उसे बहना होगा हवा के साथ
गिराने होंगे पुराने पत्ते
खिलाने होंगे फूल तन-मन में
महकना होगा दूसरों के लिए
जीना ही होगा समश्टि के लिए
प्रस्तुत कर्ता--
देवेश और निलेश
नया साल की हार्दिक शुभकामनाये !

----नव वर्ष---

काजल

सौम्या

 

 
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !
    
 
नव वर्ष आया है,
नया प्रभात लाया है। 
इक नई उमंगों के संग,
नई तरंगों के संग। 
इक नए वादों के संग,
नए इरादों के संग। 
नव वर्ष आया है,
नया प्रभात लाया है
इक नई आभा लिये,
नई आशा लिये
इक नया जोश लिये,
नया तेज लिये
नव वर्ष आया है,
नया प्रभात लाया है
 
प्रस्तुत कर्ता-----

 सौम्या और काजल

Happy New Year Wish

My Happy New Year wish for you
Is for your best year yet,
A year where life is peaceful,
And what you want, you get.


A year in which you cherish
The past year’s memories,
And live your life each new day,
Full of bright expectancies.


I wish for you a holiday
With happiness galore;
And when it’s done, I wish you
Happy New Year, and many more.
 
Girijesh Pandey "Gopi"
VMW Team

Happy New Year 2012

Siddesh

Happy New Year to you!
May every great new day
Bring you sweet surprises--
A happiness buffet.



Happy New Year to you,
And when the new year’s done,
May the next year be even better,
Full of pleasure, joy and fun.
 
Happy New Year 2011
Siddesh Pandey "Yash"

MOTHER

Sakshi Pandey
Mother is such a simple word
But to me there’s meaning
Seldom heard:
                        For everything I am today
       My mother love showed me the way.
I’ll love my mother all my
Day for enriching my life in 
     So many ways.
                        She set me straight and then
                        Set me free, and that`s what
        The word “mother mean to me
“THANK FOR BEING A WONDERFUL MOTHER MOM”
   Happy New Year 2011 to all Mothers by
  SAKSHI PANDEY

नववर्ष की आप सभी को हार्दिक बधाई |

पवन बाबा 
आज 2011 का आखिरी दिन है. एक और साल हमारी जिंदगी से गुजर जाएगा. जिंदगी के बसंत में एक और बसंत जोड़ 2011 का यह साल न जानें कितनी यादें दे अपनी छाप छोड़ हमारी जिंदगी से विदा लेने को है और जाते जाते हमें 2012 के रुप में एक नया साथी देता जा रहा है जो आने वाले 365 दिन तक हमारा साथी रहेगा.
किसी के लिए यह साल बहुत जल्दी बीत गया तो किसी के लिए यह साल बहुत लंबा रहा. विश्व पटल पर कई हलचलें पैदा कर और भारतीय खेल जगत के नए दबंगों को हमारे सामने रख यह साल अपने आप में बेमिसाल बन चुका है. हमें आशा है कि आप सब ने भी व्यक्तिगत रुप से इस वर्ष जरुर कुछ विशेष पाया होगा. लेकिन जो बीत गया उसे भूल जाएं और जो आने वाला है उसका उत्सव मनाएं. पुराने साल को एक बेहतरीन विदाई दीजिए और पूरी गर्मजोशी से नए साल का स्वागत करें. 
अंत में आप सभी को नए साल 2012 के लिए हार्दिक मंगलकामनाएं. आशा है आपके लिए नया साल नई उम्मीदें, नई आशाएं और अवसरों की बहार लेकर आएगा. 

********************
 पवन पाठक 
ॐ शांति मेडिकल स्टोर
पिपरा चौराहा , लार 
देवरिया 

30 December, 2011

हर बच्चे के हाथ में कंप्यूटर

मोहक और योगेश
भारत में इस समय अधीरता से 'आकाश ' की प्रतीक्षा है। 'आकाश 'है स्कूली स्लेट जैसा वह टैबलेट कंप्यूटर, जो देश के 22 करोड़ छात्रों को इंटरनेट के आकाश पर पहुँचाने के लिए भारत-भूमि पर अवतरित हो रहा है। VMW Team  के मोहक पाठक और योगेश पाण्डेय की रिपोर्ट ....

केवल सवा दो हज़ार रूपए मूल्य वाले संसार के इस सबसे सस्ते टैबलेट पीसी से ऐसे शैक्षिक चमत्कारों की भविष्यवाणी की जा रही है, जो किसी और देश में अब तक नहीं हुए।  यह सोचने का कष्ट कोई नहीं करना चाहता कि हर बच्चे के हाथ में कंप्यूटर थमाने के क्या कोई दुष्परिणाम नहीं हो सकते? 'आकाश'  बाज़ार में आने वाला है। वह इंटरनेट के साथ-साथ फेसबुक, ट्विटर, मीडिया प्लेयर और कंप्यूटर गेम जैसी ऐसी कई सुविधाओं से लैस होगा, जो आजकल के युवाओं की पहली पसंद हैं। उसके निर्माता शीघ्र ही हर महीने एक लाख 'आकाश' बेचने की आशा कर रहे हैं। उसे सस्ता रखने और हर छात्र तक पहुँचाने में स्वयं भारत सरकार भी गहरी दिलचस्पी ले रही है।इस में कोई शक नहीं किं कंप्यूटर का ज्ञान होना आज के समय की परम आवश्यकता है। इंटरनेट हर तरह की सूचना और संवाद का सबसे तेज माध्यम बन गया है। छात्र उससे अपने ज्ञान के क्षितिज का असीमित विस्तार कर सकते हैं। पर, यह भी तो सच है कि इंटरनेट के माध्यम से बच्चों व छात्रों तक ऐसी अपार अवांछित बातें भी पहुंच सकती हैं, जो उन्हें भटका सकती हैं। उनका चरित्र बिगाड़ सकती हैं। जीवन बर्बाद कर सकती हैं।
टैबलेट ऐसा लघु कंप्यूटर है, जिसे किसी भी समय और किसी भी जगह इस्तेमाल किया जा सकता है। माँ-बाप से छिपा कर उसका धड़ल्ले से दुरुपयोग भी हो सकता है। इसकी क्या गारंटी कि स्कूली बच्चे उसका केवल अपनी पढ़ाई-लिखाई के लिए जानकारी जुटाने, ईमेल लिखने या फेसबुकी मित्रों से संपर्क करने के लिए ही उपयोग करेंगे? वे मनचाहा संगीत ही नहीं, अश्लील तस्वीरें और वीडियो भी तो डाउनलोड कर सकते हैं? उनका मन जितना इस तरह की चीजों में लगेगा, क्या उतना ही पढ़ाई-लिखाई में भी लगेगा?

***************************
मोहक पाठक और योगेश पाण्डेय  
VMW Team 
India's New Invention
vmwteam@live.com

500 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार

प्रशांत यादव
रवि गुप्ता
चीन ने पिछले हफ्ते ऐसी ट्रेन दौड़ा दी, जिसने देखते ही देखते 500 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ ली. यानी भारत में चली तो दिल्ली से लखनऊ का सफर एक घंटे का रह जाएगा. VMW Team के रवि गुप्ता और प्रशांत यादव की एक रिपोर्ट ..
"सस्ती तकनीक, कम उम्र और भरोसे की कमी" के साथ ही अलग से नुकसान भारत में चीन से आए सामानों की सामान्य रूप से यही पहचान रहती है पर इन सबके बावजूद भारत के बाजार चीनी माल से भरे पड़े हैं. इनमें अगर यह ट्रेन भी शामिल हो जाए तो लोगों का काफी वक्त बच जाएगा.

यह नई ट्रेन चीन में ट्रेन बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी सीएसआर कॉर्प लिमिटेड की महत्वाकांक्षी परियोजना है. ट्रेन सीएसआर की एक सहयोगी कंपनी ने बनाई है. इसकी आकृति एक पुराने चीनी तलवार जैसी है. चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने यह जानकारी दी. ट्रेन के जानकार शेन जियुन ने इसके बारे में कहा है, "यह ट्रेन हाई स्पीड रेल नेटवर्क को नई और उपयोगी दृष्टि देगी." हालांकि इस ट्रेन के परीक्षण का यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि अब भविष्य में चीन की ट्रेनें इतनी तेज गति से चलेंगी. सीएसआर के चेयरमैन जाओ जियाओगांग ने बीजिंग मॉर्निंग न्यूज से कहा, "हम ट्रेन यातायात में पहले सुरक्षा को सुनिश्चित करना चाहते हैं." ट्रेन का परीक्षण ऐसे समय में किया गया है जब देश के हाईस्पीड नेटवर्क पर सवाल उठ रहे हैं. कई हादसे हुए हैं और उनकी जांच अभी चल ही रही है. चीन के रेल उद्योग के लिए यह साल काफी मुश्किल रहा है. जुलाई में हाईस्पीड ट्रेनों की टक्कर में 40 लोगों की जान गई और देश के साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इस हादसे ने आलोचना बटोरी. इस हादसे के बाद से हाईस्पीड नेटवर्क को बनाने का काम लगभग रुका पड़ा है. चीन के रेल उद्योग में हुए विस्तार के पीछे रेल मंत्री लिऊ झिजुन की बड़ी भूमिका रही है. लिऊ झिजुन को इसी साल फरवरी में भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद बर्खास्त कर दिया गया हालांकि उन पर अब तक कोर्ट में कोई मुकदमा नहीं चलाया गया है. चीन में औसतन 200 किलोमीटर प्रति घंटे या उससे ज्यादा की रफ्तार से चलने वाली ट्रेनों को हाईस्पीड नेटवर्क के दायरे में रखा गया है. चीन के पास दुनिया का सबसे लंबा हाईस्पीड रेल नेटवर्क है जिसकी लंबाई करीब 9,767 किलोमीटर है. जून 2011 तक इसमें 3,515 किलोमीटर का नेटवर्क ऐसा था जिसमें ट्रेनों की रफ्तार 300 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा रहती है.


रवि गुप्ता और प्रशांत यादव 
भटनी, देवरिया

गजब की याददाश्त

राजवीर
एक घंटे में 10 डिजिट वाले 1125 मोबाइल नंबरों को वह उल्टे-सीधे दोनों क्रम में धाराप्रवाह बोलकर सुना देता है। ये मोबाइल नंबर कोई भी हो सकते हैं। 2 नवंबर, 2011 को विजयवाड़ा (आंध्रप्रदेश) में मेमोरी विजन के एक समारोह में उसने यह उपलब्धि हासिल की। इसी माह लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड के एडिटर विजय घोष ने उसे नेशनल रिकॉर्ड, 2013 का सर्टिफिकेट जारी किया। VMW Team के अभिषेक तिवारी की एक रिपोर्ट .....

आंध्रप्रदेश के निशांत कुमार ने 1 घंटे में 840 नंबरों को याद करके लिम्का रिकार्ड बनाया था, जिसे राजवीर ने तोड़ा है। उसने बताया कि ये रिकॉर्ड कैसे बनते हैं। 12वीं क्लास तक यह पता नहीं था, इसीलिए उसने वीआईटी, वेल्लोर में एडमिशन लिया, अभी वह बीटेक बायोटेक्नोलॉजी फाइनल ईयर का स्टूडेंट है। वह इंडियन फॉरेन सर्विसेज में सलेक्ट होकर देश के लिए कुछ करना चाहता है। सवाईमाधोपुर जिले के छोटे से गांव मोहचा के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाला राजवीर बचपन से ही पढ़ने में बहुत फिसड्डी रहा, उसने बताया कि, मैं कक्षा-5 तक सेकंड व थर्ड डिवीजन पास होता था।
उसके पिता धमेंद्र सिंह मीणा रेलवे में हैं। बाद में कोटा आकर 2 साल पीएमटी की तैयारी की, लेकिन सलेक्शन नहीं हो सका। उसे थ्योरी कभी समझ में नहीं आती थी। 2006 में मेमोरी गुरु कृष्ण चहल की एक घंटे की एक सेमीनार के बाद उसने ठान लिया कि वह भी कुछ नया करके दिखाएगा। बस यहीं से 100 नंबरों की सीक्वेंस को याद करने के लिए उसने हजारों ट्रिक्स तैयार कर ली और प्रैक्टिस करता रहा। 3 साल की कड़ी मेहनत के बाद वह रिकॉर्ड तोड़ने में सफल रहा। साइंस के स्टूडेंट पाई के मान 3.14 के बाद कुछ ही डिजिट आसानी से याद रख पाते हैं, लेकिन राजवीर 3.14 के बाद आने वाले 40 हजार जटिल अंकों को कैलकुलेटर की तरह धाराप्रवाह सुना देता है। इसमें भी वह लिम्का रिकॉर्ड से कुछ ही दूर है। मेमोरी गुरु कृष्ण चहल के नाम 43 हजार अंकों का रिकॉर्ड दर्ज है, जिसे वह जल्द ही तोड़ना चाहता है।
 
अभिषेक तिवारी "प्रिंस जी" 

 

बिलबिलाता बिल

भ्रष्ट नेताओं और गंदी राजनीति में फंसा लोकपाल विधेयक एक बार फिर उस खोह में चला गया है, जहां से वह कम से कम आने वाले चुनावों तक तो नहीं निकल सकता. राज्यसभा ने इसे पास नहीं किया और अब इसकी फिक्सिंग के आरोप लग रहे हैं. हो सकता है कि सभी पार्टियों ने चुनाव के डर से इस बिल को फिलहाल पास न कराने का कोई गुप्त समझौता कर रखा हो लेकिन राज्यसभा में लटकने के बाद सबसे ज्यादा किरकिरी भारत सरकार की हो रही है. गुरुवार आधी रात से विपक्ष ने कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए सरकार की निंदा कर करके नाक में दम कर दिया है और शुक्रवार सुबह बची खुची भड़ास भारतीय मीडिया ने निकाल दी है. संसद के बढ़े हुए सत्र में भी बिल के पास न हो पाने के साथ ही मनमोहन सिंह की सरकार के चेहरे पर एक और तमाचा लगा है. भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी सरकार के सामने अब सफाई देने के लिए बहुत कुछ नहीं रह गया है. राजनीतिक जानकारों का कहना है कि गाड़ी ऐसी असंतुलित हो चुकी है, जो कभी भी गिर सकती है और इस बात की कम ही संभावना दिख रही है कि सरकार अपना कार्यकाल पूरा कर पाएगी
.जहां तक लोकपाल बिल का सवाल है, लोकसभा से पास होने के बाद भी यह अधर में लटक गया है. संसद का शीतकालीन सत्र खत्म हो गया है और अब अगले साल बजट सत्र में ही इस पर कार्यवाही हो सकती है, जो फरवरी से पहले नहीं शुरू होने वाला है. भारत में पांच जगहों पर फरवरी में चुनाव होने हैं. कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने जनवरी में संसद का विशेष सत्र बुलाने की संभावना से इंकार किया है.लोकपाल बिल के फंस जाने के साथ ही भारत का राजनीतिक साल एक बेहद खराब मोड़ के साथ पूरा हुआ. साल 2011 को भ्रष्टाचार के मामलों और केंद्रीय मंत्रियों के जेल जाने के अलावा सरकार के सिरदर्द बने अन्ना हजारे के लिए भी याद किया जाएगा. हजारे ने लगातार अनशन के बल भ्रष्टाचार के खिलाफ ऐसा मोर्चा खोला कि सरकार को लोकपाल बिल की तैयारी करनी पड़ी. यह बात और है कि आखिर में राजनीति के बल पर ही इस बिल को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया.

गोपाल मिश्र, पीलीभीत 

 

27 December, 2011

राष्ट्रगान जन-गण-मन

भारत का राष्ट्रगान "जन गण मन" इस 27 दिसंबर को नई इबारत लिख दी। गुरूदेव रवींद्रनाथ टेगौर द्वारा रचित यह गान मंगलवार को उद्भव की एक शताब्दी पूरी कर चुका है।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता सत्र में 27 दिसंबर 1911 को इसे पहली बार गाया गया था। आजादी के बाद 24 जनवरी 50 को राष्ट्र गान का दर्जा दिया गया।

तबसे भारत की समृद्धि, संपन्नता और अभूतपूर्व गौरव गाथा बताता आ रहा यह गान देश के गौरव गान के रूप में स्थापित हो चुका है। औपचारिक रूप से राष्ट्रगान को 52 सेकंड में गाया जाता है।
रवीन्द्रनाथ ठाकुर विश्व के एकमात्र व्यक्ति हैं, जिनकी रचना को एक से अधिक देशों में राष्ट्रगान का दर्जा प्राप्त है। उनकी एक दूसरी कविता आमार सोनार बाँग्ला को आज भी बाँग्लादेश में राष्ट्रगान का दर्जा प्राप्त है। और इससे अधिक मजेदार बात यह है कि बाँग्लादेश के इस राष्ट्रगान को संगीत प्रदान करने वाला व्यक्ति एक नेपाली है।

जन-गण-मन की खास बातें --
0 इंडियन नेशनल कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में 27 दिसंबर 1911 को पहली बार गाया।
0 महान संगीतकार पंकज कुमार मलिक ने संगीत तैयार किया।
0 24 जनवरी 1950 को संसद ने एडाप्ट किया।
0 सुभाष चंद्र बोस की इंडियन नेशनल आर्मी ने 1946 में इसे नेशनल एंथम स्वीकार कर लिया था।
0 ब्रम्हो स्टाइल में लिखा गया गीत है।
0 100 सालों में देश को जागृत किया। बार्डर पर सेना में जोश भरने वाला इससे अच्छा गीत नहीं।



जन-गण-मन अधिनायक जय हे,
भारत-भाग्य-विधाता ।
पंजाब सिन्धु गुजरात मराठा,
द्राविड़ उत्कल बंग ।
विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा,
उच्छल जलधि तरंग ।
तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष माँगे;
गाहे तव जय गाथा ।
जन-गण मंगलदायक जय हे,
भारत-भाग्य-विधाता ।
जय हे ! जय हे !! जय हे !!!
जय ! जय ! जय ! जय हे !!

25 December, 2011

दे बधाई तुम्हें

बधाई !!
एक शब्द, एक संवाद, एक एहसास,
जो महका करेगा महफ़िल में,
हम रहे या ना रहे रस्ते में,
यही आवाज़ गूंजेगी दिल में-
"तारो की चमक, फूलों की रंगत मिले,
हर मोड़ पर तुमको मोहब्बत मिले...
और महका करे मौजूदगी से आपकी फिजा,
ज़मी पे आपको रौनक-ए-जन्नत मिले..."
और खामोश सदाओं में भी गूँज उठे एक सदा...
जैसे कि शहनाई-
बधाई !! बधाई !! बधाई..........


आप के स्नेह और सहयोग के प्रतीक्षा में ..................

आप लोगो के सहयोग से हमारी टीम अपनी ५ वी वर्षगाठ मना रही है | इस सुअवसर पर आप को हार्दिक बधाई और शुभकामनाये ! 
आप के स्नेह और सहयोग के प्रतीक्षा  में ...................




हार्दिक बधाई और शुभकामनाये !

आप लोगो के सहयोग से हमारी टीम अपनी ५ वी वर्षगाठ मना रही है | इस सुअवसर पर आप को हार्दिक बधाई और शुभकामनाये ! 
आप के स्नेह और सहयोग के प्रतीक्षा  में ...................
                                                                     आपका 

VMW Team

महाशतक से रोकना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है।

आर. के. शुक्ला "अनुज"
सचिन लगाएंगे सर डॉन की धरती पर महाशतक। यह बात हर सचिन फ़ैन तो कह ही रहा था, अब ऑस्ट्रेलिया का सट्टा बाज़ार और मैं (आर. के. शुक्ला "अनुज) भी यही कह रहा हू कि मास्टर को सीरीज़ में महाशतक से रोकना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है।
सचिन की ऑस्ट्रेलिया में सौंवी सेचुरी का इंतज़ार तो हर कोई कर रहा है, लेकिन शायद यह पहली बार हो रहा है कि सचिन को हर हाल में नीचा दिखाने वाले कंगारु भी कर रहे हैं मास्टर के महाशतक का बेसब्री से इंतज़ार है। ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट फ़ैंस को भी है उम्मीद की सचिन डाउन-अंडर पर ही पूरा करेंगे शतकों का शतक। यही नहीं, सचिन के महाशतक की उम्मीद तो मेलबर्न के पहले टेस्ट में ही जताई जा रही है। यह कह रहा है ऑस्ट्रेलिया का सट्टा बाज़ार, जहां पर मेलबर्न में ही सचिन की सेंचुरी पर खेले जा रहे हैं करोडों के दांव। ऑनलाइन बैटिंग साईट sportsbet.com.au की मानें, तो सचिन की मेलबर्न में सेंचूरी के लिए सट्टा बाज़ार 9 के मुक़ाबले 4 का भाव दे रहा है। यानि सट्टा बाज़ार को लगता है कि सचिम मेलबर्न में ही मारेंगे महाशतक। कुल मिलाकर सट्टा बाज़ार के इस रुख़ से साफ़ है कि मास्टर के महाशतक की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है अब बस इंतज़ार है, तो सचिन के मैदान में उतरने का।

++++++++++++++++++++
R.K.Shukla "Anuj"
VMW Team (India's New Invention)
vmwteam@live.com

12वीं के बजाय स्नातक

आर. एन. यादव
आने वाले सालों में युवाओं के लिए बैंकों में नौकरियों की ख़ूब भरमार होगी। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में ही पांच साल में क़रीब एक लाख दस हज़ार कर्मचारियों के रिटायर होने से जगह खाली होंगी, लेकिन बैंक लिपिकों के लिए ज़रूरी शैक्षणिक योग्यता को अब 12वीं के बजाय स्नातक किया जा सकता है। बैंक ऑफ़ बड़ौदा के पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक अनिल के खंडेलवाल की अध्यक्षता वाली समिति ने यह सिफारिश की है। समिति ने अपनी रिपोर्ट में अधिकारियों की सीधी भर्ती तेज़ करने के लिए भी कहा है। बैंकिंग क्षेत्र में मानव संसाधन विषय पर इस रिपोर्ट में बड़े बैंकों में तीसरे कार्यकारी निदेशक की नियुक्ति की भी सिफ़ारिश की गई है, जो विशेष रूप से मानव संसाधन की ज़िम्मेदारी संभाले। समिति का कहना है कि अधिकारियों की 50 प्रतिशत भर्तियां सीधे की जानी चाहिए। यह रिपोर्ट सचिव (वित्तीय मामले) आर गोपालन को बुधवार को सौंपी गई। खंडेलवाल ने कहा कि अगले पांच साल में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में शीर्ष प्रबंधन स्तर पर 60 से 70 प्रतिशत तक अधिकारी सेवानिवृत्त हो जाएंगे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अच्छा काम करने वाले को प्रोत्साहन और अच्छे कर्मचारी की पहचान के लिए केवल शीर्ष अधिकारी ही नहीं, बल्कि अधीनस्थ कर्मचारी और यहां तक कि ग्राहकों से भी राय ली जाए। सार्वजनिक उपक्रमों की तर्ज पर बैंकिंग क्षेत्र में भी महारत्न, नवरत्न और मिनी रत्न का दर्ज़ा दिए जाने की सिफ़ारिश की गई है। इससे बैंकिंग क्षेत्र को नई पहचान मिलेगी और कार्यकुशलता बढ़ाने को प्रोत्साहन मिलेगा। नवंबर 2009 में गठित इस समिति की रिपोर्ट में बैंकिंग क्षेत्र में बढ़ रही प्रतिस्पर्धा के बीच सरकारी बैंकों के कारोबार में सुधार पर भी ज़ोर दिया गया है और कहा गया है कि इसके लिए कुशल पेशेवरों की ज़रूरत होगी। समिति ने नए भर्ती कर्मियों को तीन साल अनिवार्य रूप से ग्रामीण इलाक़ों में तैनात करने की सिफ़ारिश भी की है। रिपोर्ट कहती है कि हर बैंक का अपना वेतन ढांचा होना चाहिए। वर्तमान में सार्वजनिक क्षेत्र के सभी बैंकों के लिए एक ही वेतन ढांचा है।

%%%%%%%%%%%%%%%%%
R.N.Yadav
Principal
S.N.Public School
Beharadabar, Bhatani, Deoria

कोलावेरी डी का हिंदी संस्करण

टी. के. ओझा "नीशू" 
दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार धनुष अपने सुपरहिट गीत कोलावेरी डी का हिंदी संस्करण तैयार कर रहे हैं। अभी तक डेढ़ करोड़ से ज्यादा लोगों ने इस गाने को वीडियो शेयरिंग साइट यू-ट्यूब पर सुना है।
रजनीकांत के दामाद धनुष ने यह गीत अपनी पत्‍‌नी ऐश्वर्या की फिल्म 3 के लिए तैयार किया है। सूत्रों केमुताबिक पहले इस गीत के हिंदी संस्करण को अभिषेक बच्चन और अक्षय कुमार अपनी आवाज देने वाले थे मगर गाने की लोकप्रियता को देखते हुए धनुष ने खुद ही इसे हिंदी में गाने का फैसला किया है। इस गाने की पंक्तियां होगी, डिस्टेंस पर मेरे चांद चांद, मर गई मेरी नींद..।
धनुष ने बताया कि उन्हें हिंदी नहीं आती है इसलिए उन्होंने अपने दोस्त की मदद से कोलावेरी डी के तमिल शब्दों का हिंदी में अनुवाद कराया और संगीत के अनुसार उसे ढाला। यह गाना हिंदी और अंग्रेजी में गाया गया है। जल्द ही इसका रीमिक्स संस्करण भी आएगा। देखना यह है कि कोलावेरी का हिंदी संस्करण हिट हो पाता है या नहीं।

मुफ्त एसएमएस

एम. के. पाण्डेय "निल्को जी"
इस अनोखी सर्विस के लिए आपको अपना सर्विस प्रोवाइडर बदलने की जरुरत नहीं है बल्कि आपको सिर्फ एक एप्लीकेशन अपने मोबाइल में डाउनलोड करना होगा जिसके जरिए आप दुनियाभर में किसी भी मोबाइल पर मुफ्त एसएमएस भेज सकते हैं। हॉटमेल के फाउंडर सबीर भाटिया और योगेश पटेल ने इस एप्लीकेशन को लांच किया जेक्सटर इंक नाम की यह एप्लीकेशन किसी भी मोबाइल में आसानी से डाली जा सकता है। यह एप्लीकेशन ब्लैकबेरी, एंड्रायड आईफोन समेत दुनिया भर के किसी भी मोबाइल के साथ आसानी से ऑपरेट की जा सकती है।
मौजूदा समय में एक इंटरनेशनल एसएमएस भेजने के 5 रुपए तक लगते हैं लेकिन इस नए एप्लीकेशन के जरिए आप अपने मोबाइल से दुनिया के किसी भी कोने में फ्री एसएमएस भेज पाएंगे। सबीर भाटिया के मुताबिक उनके इस नए एप्लीकेशन को जबर्दस्त रेसपॉंस मिल रहा है सिर्फ एक हफ्ते के दौरान ही 197 देशों के 10 करोड़ लोग इस एप्लीकेशन को डाउनलोड कर चुके हैं।
भाटिया के मुताबिक मौजूदा समय में दुनिया में 4.2 लोग मोबाइल से एसएमएस भेजते हैं जो 2015 तक  बढ़कर 12 खरब हो जाएगा। यह एप्लीकेशन फिलहाल लोगों के लिए मुफ्त हैं कंपनी इसकी प्रीमियम सर्विस के द्वारा पैसा कमाने का प्लान बना रही है। जिसमें मैसेज आर्काइव, मल्टीमीडिया और विडियो आदि हैं।

Loading...