Blockquote

Followers

07 June, 2011

ट्रस्ट का टर्नओवर करीब ११०० करोड़


भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन कर रहे बाबा रामदेव ने विशाल कारोबारी साम्राज्य खड़ा कर रखा है। उनके सबसे करीबी विश्वासपात्र आचार्य बालकृष्ण ३४ कंपनियों के डायरेक्टर हैं। ये सभी कंपनियां केवल पांच साल, याने २००६ से २०११ के बीच अस्तित्व में आईं। सीबीआई और आयकर विभाग ने अब अपनी नजर इन कंपनियों पर डाली है। जानकारी के अनुसार प्रारंभिक जांच में बाबा के दो ट्रस्ट पतांजलि योगपीठ ट्रस्ट और दिव्य योग मंदिर को निशाने पर लिया गया है। ये ट्रस्ट उत्तराखंड के हरिद्वार में करीब १००० एकड़ जमीन पर बने हुए हैं। २००९-२०१० में इन दोनों ट्रस्ट का टर्नओवर करीब ११०० करोड़ आंका गया। और यदि इन सभी ३४ कंपनियों का टर्न ओवर आंका जाए, तो यह कई करोड़ रुपए होगा। बाबा के विश्वसनीय सलाहकार आचार्य बालकृष्ण इन सभी कंपनियों के डायरेक्टर हैं। पतंजलि आयुर्वेद, जो इन सभी कंपनियों में सबसे बड़ी मानी जाती है की वेबसाइट पर भी बालकृष्ण की जबर्दस्त तारीफ है। इसके अनुसार आचार्य बालकृष्ण को प्रबंधन, प्रशासन और इंजीनियरिंग क्षेत्र का काफी व्यापक अनुभव है औऱ विश्व के कई जाने माने लोग उनसे संपर्क कर, सीखने की कोशिश करते हैं। केंद्र सरकार के कार्पोरेट मामलों के मंत्रालय में उपलब्ध जानकारी के अनुसार ये कंपनियां दवाएं, कॉस्मेटिक्स, उर्जा आदि क्षेत्रों की हैं। यही नहीं आचार्य रियल इस्टेट में भी सक्रिय हैं। आटार्य बालकृष्ण की कंपनियों में पतांजलि आयुर्वेद लिमिटेड, दिव्य फार्मेसी योग, आरोग्य हर्बल, झारखंड मेगा फुड पार्क, दिव्य फार्मा और डायनामिक बिल्डकॉम शामिल हैं। आचार्य बालकृष्ण जिन दूसरी कंपनियों के डायरेक्टर हैं उनमें टीवी प्रोडक्शन और ब्राडकास्टिंग के क्षेत्र में वैदिक आस्था भजन ब्राडकास्टिंग प्राइवेट लिमिटेड और वैदिक ब्राडकॉस्टिंग लिमिटेड भी हैं। इनके अलावा बालकृष्ण पतांजलि आयुर्वेद लिमिटेड, पतांजलि बिस्किस्ट्स प्राइवेट लिमिटेड, पतांजलि एरोमैटिक्स प्राइवेट लिमिटेड, पतांजलि टेक्सटाइल्स प्राइवेट लिमिटेड, पतंजलि फ्लेक्सीपार्क प्राइवेट लिमिटेड, पतंजलि परिवहन प्राइवेट लिमिटेड और पतंजलि हाइ़ड्रोपोनिक्स प्राइवेट लिमिटेड भी चला रहे हैं।
Loading...