Blockquote

Followers

17 December, 2010

भारत हैं नं. 1


V.B.Pathak
भ्रष्टाचार विरोधी संगठन 'ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल' (टीआई) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 100 में 54 लोग बेईमान और घूसखोर हैं। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2010 में भारत के हर दूसरे आला अधिकारी ने अपना काम कराने के लिए रिश्वत दी और ली। देश में रिश्वत लेने में सबसे आगे हैं
भारतीय पुलिस। दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र अब भ्रष्टतंत्र में

 तब्दील होता जारहा है।

भारत में 100 में से 54 लोग भ्रष्ट हैं, जो अपना काम करवाने के लिए

किसी भी हद तक जा सकते हैं। फिर वो चाहे इसके लिए घूस दें या घूस लें।

सड़क से लेकर संसद तक पूरे देश में घोटाला ही घोटाला है।


सयुंक्त राष्ट्र संघ का भ्रष्टाचार विरोधी संगठन 'ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल' की हालिया जारी रिपोर्ट में

 भारत भ्रष्टाचार का गढ़ बनता जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार

 पुलिस विभाग में है। सर्वेक्षण में भारत को इराक और अफगानिस्तान सहित सबसे भ्रष्ट देशों में

 गिना गया है। यही नहीं भारत में 74 फीसदी लोगों के मुताबिक देश में पिछले 3 सालों में

 रिश्वतखोरी काफी बढ़ी है।

भारत का 2जी स्पैक्ट्रम घोटाला, जिसने देश को 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाया।

 साथ ही राष्ट्रमंडल खेलों में किया जबरदस्त घोटाला भी देश में बढ़ते भ्रष्टाचार को बयां करता है।

 भारत में बाबू से लेकर अफसर सभी घूसखोर हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 12 महीनों में दुनिया के हर चौथे आदमी ने घूस ली। घूस लेने वालों में

 शिक्षा, स्वास्थय और कर विभाग के अधिकारी सबसे आगे हैं। 'ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल' सगंठन साल

 2003 से भ्रष्टाचार पर रिपोर्ट जारी कर रहा है। ये उसकी 7वीं रिपोर्ट है।


वीर भद्र मणि पाठक

लार देवरिया
Loading...